चुनावी तैयारी की समीक्षा करने नागपुर पहुंचे, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे


  • चुनावी तैयारी की समीक्षा करने नागपुर पहुंचे, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे
    चुनावी तैयारी की समीक्षा करने नागपुर पहुंचे, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे
    1 of 2 Photos
  • चुनावी तैयारी की समीक्षा करने नागपुर पहुंचे, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे
    चुनावी तैयारी की समीक्षा करने नागपुर पहुंचे, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे
    1 of 2 Photos

नागपुर :- शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे का शुक्रवार की सुबह शहर में आगमन हुवा वे विदर्भ के सभी जिलों व लोकसभा क्षेत्र स्तर पर संगठनात्मक कार्यों की समीक्षा के लिए आये है। सुबह १०.३० बजे वे रविभवन पहुंचे थोड़ी देर आराम करने के पश्चात वे कार्यकर्ताओ से मिलने रवि भवन के सभागृह में गए I बता दे की लोकसभा व विधानसभा चुनाव में शिवसेना ने अकेले मैदान में उतरने का निर्णय लिया है, लिहाजा कम समय में संगठन को अधिक से अधिक मजबूत बनाकर ऊर्जा देने का प्रयास श्री ठाकरे प्रयास करेंगे। 

शिवसेना चीफ ठाकरे करीब ३ वर्ष बाद नागपुर में संगठन कार्य के सिलसिले में आये हैं। उनके इस दौरे को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। समीक्षा बैठक की तैयारी के लिए परिवहन मंत्री व शिवसेना के जिला संपर्क प्रमुख दिवाकर रावत गुरुवार को ही नागपुर पहुंच गए हैं। संगठनात्मक मामलों के समन्वयक प्रमुख अरविंद नेरकर ने भी व्यवस्था का जायजा लिया है। फिलहाल विदर्भ में शिवसेना के ४ सांसद हैं। दो विधायकाें में से एक राज्यमंत्री हैं। विधानसभा के पिछले 3 चुनावों के परिणाम देखे जाएं तो शिवसेना की ताकत विदर्भ में लगातार कमजोर हो रही है। स्थिति यह है कि सभी जिले में संगठनात्मक कार्यकारिणी पूरी तरह से नहीं बन पाई है। नागपुर में ही देखें तो संगठन को नई ऊर्जा देने की दरकार लगातार की जा रही है। शहर में ५ साल से भी अधिक समय से कार्यकारिणी तक नहीं बन पाई है। 

जिला प्रमुख बदलकर पूर्व सांसद प्रकाश जाधव को नए जिला प्रमुख नियुक्त किया गया। फिर भी कार्यकारिणी विस्तार का अभाव है। कार्यकर्ताओं में समन्वय भी पूरी तरह से नहीं है। हाल ही में पूर्व नागपुर में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। उसमें युवा सेना के अध्यक्ष आदित्य ठाकरे मुख्य आमंत्रित थे, लेकिन वे किसी कारण से आ नहीं पाये । कार्यक्रम आयोजन को लेकर गुटबाजी भी देखी गई। कार्यक्रम में जिला प्रमुख व अन्य पदाधिकारी भी नहीं पहुंचे थे। कहा जाता रहा कि शिवसेना में संगठनात्मक राजनीति में किनारे लग रहे कुछ नेता कार्यकर्ताओं में जिला नेतृत्व के प्रति असंतोष बढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं। उद्धव ठाकरे के लिए जिला स्तर पर संगठनात्मक गुटबाजी का मामला भी चर्चा का विषय माना जा रहा है I २०१४ के विधानसभा चुनाव के पहले वे चाहकर भी गुटबाजी दूर नहीं कर पाए थे। लिहाजा स्थिति यह रही कि विधानसभा चुनाव में शिवसेना को उम्मीदवार तक नहीं मिले। भाजपा के साथ गठबंधन नहीं था। उत्तर नागपुर में शिवसेना उम्मीदवार मैदान से पहले ही हट गया। एबी फार्म लेने के बाद भी शिवसेना के लिए कार्यकर्ता का चुनाव नहीं लड़ना पार्टी के लिए गहन चिंतन का विषय बना था। ठाकरे ने विधानसभा में केवल एक सभा ली थी। बाद में कार्यकर्ताओं से मिलने के लिए एक होटल में बैठक का आयोजन किया था, लेकिन संगठन विस्तार का मामला अधूरा ही रहा था I 



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today