शिवसेना के विधायक सत्ता के लिए साथ छोड़ सकते हैं, इसलिए सत्ता में शिवसेना, भाजपा के साथ है - अ


  • शिवसेना के विधायक सत्ता के लिए साथ छोड़ सकते हैं, इसलिए सत्ता में शिवसेना, भाजपा के साथ है - अ
    शिवसेना के विधायक सत्ता के लिए साथ छोड़ सकते हैं, इसलिए सत्ता में शिवसेना, भाजपा के साथ है - अ
    1 of 1 Photos

नागपुर : बिजली निर्माण के लिए कोयले की कमी के मामले में पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने राज्य सरकार व ऊर्जामंत्री पर सवाल दागा है कि बिजली निर्माण के लिए कोयला समय पर क्यों नहीं मिल पाया। राज्य में ऊर्जामंत्री रहे पवार ने यह भी कहा कि सरकार के शून्य नियोजन के कारण बिजली कटौती का संकट आया है।

ऊर्जामंत्री चंद्रशेखर बावनकुले को जवाब देना चाहिए कि गड़बड़ी कहां हुई। एक सवाल पर पवार ने कहा कि शिवसेना को लगता है कि वह सरकार से समर्थन वापस ले लेगी, तो उसके ही कुछ विधायक उसके साथ नहीं रहेंगे। सत्ता के लिए विधायक शिवसेना का साथ छोड़ सकते हैं। इसलिए शिवसेना, भाजपा के साथ सत्ता में हैं।

सरकार गंभीर नहीं

पवार ने कहा कि कीटनाशक छिड़काव के दौरान विषबाधा से किसानों की मौत के मामले में सरकार गंभीर नहीं है। हेलमेट पहनकर कीटनाशक का छिड़काव किया जा रहा है। विषबाधा के आरोपियों के विरुद्ध हत्या का प्रकरण दर्ज करना चाहिए। राकांपा में संगठनात्मक समीक्षा के लिए यहां आए श्री पवार शुक्रवार को प्रेस से मिलिए कार्यक्रम में बोल रहे थे। विदर्भ में संगठन की स्थिति पर उन्होंने कहा कि यहां एक ही दल को जनाधार मिलता रहा है। पहले कांग्रेस को िवदर्भ में जीत मिलती थी। अब भाजपा को जीत मिली है। राकांपा के 11 विधायक थे। अब 1 ही है। लिहाजा राकांपा विदर्भ में संगठन को मजबूत कर रही है।



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today