उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रावत ने की सरसंघचालक से मुलाकात


  • उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रावत ने की सरसंघचालक से मुलाकात
    उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रावत ने की सरसंघचालक से मुलाकात
    1 of 1 Photos

नागपुर :- चीन के सैनिकाें की घुसपैठ के मामले पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्रसिंह रावत ने कहा है कि सीमांकन नहीं होने के कारण सीमा पर विवाद हो जाता है। चीन की घुसपैठ की जानकारी केंद्र सरकार को दे दी गई है। घुसपैठ के बाद भी चीन धमकी दे रहा है। चीन को उत्तेजनापूर्ण बातें नहीं करना चाहिए। उससे लड़ाई के लिए हमारी सरकार आैर सेना तैयार है। सीमा विवाद के बीच सोमवार को चीन के सैनिक उत्तराखंड के चमोली में घुस आए थे। उन्हें वापस लौटाया गया।

मंगलवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्रसिंह संघ मुख्यालय पहुंचे। सरसंघचालक डॉ.मोहन भागवत से मुलाकात की। वर्धा मार्ग के एक होटल में व्यापारी संगठन के प्रतिनिधियों से भी चर्चा की । इसी दौरान पत्रकारों से चर्चा में श्री रावत ने कहा कि चीन के साथ सीमा विवाद बातचीत से दूर किया जा सकता है। सीमा क्षेत्र में एेसे भी स्थान है जहां भारत या चीन के सैनिक शस्त्रों के साथ नहीं जा सकते हैं। थलसेना अध्यक्ष पहले ही कह चुके हैं कि चीन की चुनौती का हर स्तर पर सामना करने के लिए हम तैयार है। सरसंघचालक से मुलाकात के मामले पर श्री रावत ने कहा कि नागपुर उनके लिए प्रेरणा का स्थान है। वे संघ के प्रचारक रहे हैं। नागपुर आते जाते रहते हैं। उत्तराखंड में कैंसर उपचार के लिए बड़ी चिकित्सा संस्था खोलने का विचार चल रहा है।

नागपुर के नेशनल इंस्टीट्यूट आफ कैंसर को देखने के लिए भी वे यहां आए हैं। दिसंबर में उत्तराखंड में व्यावसायिक संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। विदर्भ इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के पदाधिकारियों के साथ उस संबंध में बैठक में चर्चा की गई है। उत्तराखंड में औद्योगिक निवेश बढ़ाने के लिए सभी राज्यों के औद्योगिक संगठनों से संपर्क किया जा रहा है। एक प्रश्न पर उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में किसान आत्महत्या के मामले की जांच चल रही है। फिलहाल किसान आत्महत्या के किसी भी मामले में सुसाइड नोट नहीं मिला है। 



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments