पूर्व सांसद नाना पटोले होंगे कांग्रेस में शामिल


  •  पूर्व सांसद नाना पटोले होंगे कांग्रेस में शामिल
    पूर्व सांसद नाना पटोले होंगे कांग्रेस में शामिल
    1 of 1 Photos

नागपुर : आगामी भंडारा-गोंदिया लोकसभा क्षेत्र के लिए उपचुनाव को लेकर पूर्व सांसद नाना पटोले ने कहा कि मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस या एनसीपीनेता प्रफुल पटेल, बीजेपी- शिवसेना के उम्मीदवार होंगे तो उनके विरोध में वे चुनाव जरूर लड़ेंगे, या फिर उपचुनाव में किसी कार्यकर्ता को मौका दिया जाएगा । हाल में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से नाराज हुए पटोले ने बीजेपी और लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दिया है। जय जवान जय किसान संगठन के संयोजक प्रशांत पवार के कार्यालय में पटोले ने बताया कि उनका कांग्रेस में जाना तय है। एक दिन पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से उनके दिल्ली स्थित आवास पर मुुलाकात की थी। हालांक राज्य में भीमा कोरेगांव प्रकरण को लेकर जो माहौल बना है, उसे देखते हुए कांग्रेस में प्रवेश की औपचारिक घोषणा नहीं हो सकी है । 

नाना पटोले ने कहा कि राज्य सरकार का अगले चुनाव में गिरना तय है । जनवरी में ही राज्य में सरकार के नेतृत्व को लेकर निर्णायक स्थिति बनेगी। मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर जो कुछ भीतरखाने चल रहा है। उसका परिणाम जल्द देखने को मिलेगा । मुख्यमंत्री फडणवीस को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल करने की भी चर्चा चल रही है। यदि वे दिल्ली की राजनीति के लिए भंडारा-गोंदिया क्षेत्र से लोकसभा का उपचुनाव लड़ेंगे । तो उनके विरोध में मै चुनाव लड़ूंगा। फड़णवीस हर मोर्चे पर असफल साबित हुए हैं, अभी हुवे भीमा कोरेगांव प्रकरण में भी उनकी असफलता सामने आई है। मुख्यमंत्री राज्य के गृहमंत्री भी हैं। गुप्तचर एजेंसियों के माध्यम से गृह मंत्रालय को रपट मिलती रहती है कि कहां क्या हो रहा है और क्या होने वाला है। भीमा कोरेगांव मामले में गुप्तचर एजेंसियों की सूचना को फडणवीस नजरअंदात करते रहे, यही कारण है कि राज्य में तीन दिन तनाव की स्थिति बनी रही । उन्होंने आरोप लगाया की मुख्यमंत्री तो मराठा और दलितों के बीच विभाजन की राजनीति कर रहे हैं। ऐसे प्रकरणों से राज्य में विकास योजनाओं के लिए निवेश नहीं हो पाएगा। 

बीजेपी में कम समय में ही बहुत कुछ सीखने को मिला है। बीजेपी की कथनी और करनी में अंतर रहता है। कई बार बोल चुका हूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किस तरह केवल झूठ की राजनीति कर रहे हैं। फिलहाल जो राजनीतिक स्थितियां बनी है, उसमें एक बार फिर कांग्रेस को ताकत देने की आवश्यकता है। कांग्रेस ही देश को मजबूती दे सकती है। राजनीतिक दल में प्रवेश के लिए मेरे पास कई विकल्प हैं। कुछ ने राज्यसभा में पहुंचाने का भी आमंत्रण दिया है। यहां तक कि बसपा के नेताओं से भी बातचीत हुई है। लेकिन मुझे लगता है कि अन्य दल को ताकत देने से केवल बीजेपी विरोधी ताकत का विभाजन होगा। उन्होंने कहा की मैं मूलतह ही कांग्रेसी ही हूं।
11 जनवरी को यवतमाल जिले के दाभड़ी गांव में पश्चाताप सभा होगी। प्रधानमंत्री बनने से पहले मोदी ने दाभड़ी में ही चाय पर चर्चा के माध्यम से किसानों को झूठे आश्वासन दिए थे। किसान आत्महत्या थमी नहीं है। पश्चाताप सभा के माध्यम से किसानों से आव्हान करेंगे कि वे निराश होने की बजाए झूठे आश्वासन देनेवाले प्रधानमंत्री को जवाब दें। पश्चाताप सभा में विविध किसान संगठनों के नेता शामिल होनेवाले है। 
 



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today