नागपुर कॉक्लियर इन्प्लाँट केंद्र शुरू करनेवाला राज्य का पहला शहर


  • नागपुर कॉक्लियर इन्प्लाँट केंद्र शुरू करनेवाला राज्य का पहला शहर
    नागपुर कॉक्लियर इन्प्लाँट केंद्र शुरू करनेवाला राज्य का पहला शहर
    1 of 1 Photos

नागपुर :- मध्य भारत में आर्थिक रूप से पिछड़े बच्चों के लिए इंदिरा गांधी सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (मेयो) यह कॉक्लियर इन्प्लाँट केंद्र शुरू करनेवाला राज्य में पहला अस्पताल है । अस्पताल के कॉक्लियर इन्प्लाँट के वजह से बच्चे अब सुन और बात करने के लिए सक्षम होंगे । यह निश्चित रूप से गरीब बच्चों के लिए एक वरदान होगा ऐसा दावा केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और जहाजरानी और जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी द्वारा किया गया । वह कॉक्लियर इन्प्लाँट केंद्र के उद्घाटन के अवसर पर बोल रहे थे। इस अवसर पर जिला परिषद अध्यक्षा श्रीमती निशा सावरकर, स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ प्रकाश वाकोडे, मेयो के प्रभारी अधिष्ठाता डॉ. अनुराधा श्रीखंडे, डॉ मिलिंद कीर्तने उपस्थित थे।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि इससे पहले एक कॉक्लियर इन्प्लॉट की नियुक्ति करना बहुत महंगा था और उन्हें भी इसको लगाने के लिए मुंबई जाना पड़ाता था । पर अब इस सुविधा के चलते मध्य भारत के गरीब बच्चों के लिए नागपुर पसंदीदा स्थान बन गया है। केंद्र और राज्य सरकार से सहयोग के साथ इस केंद्र का निर्माण कार्य किया गया है । इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के हाथों चार बधिर बच्चों को मशीनरी आवंटित कि गई । इन बच्चों की कल सर्जरी की जाएगी और शेष छह बच्चो की सर्जरी दूसरे चरण में कि जाएगी । वर्तमान स्थिति में निजी चिकित्सा सेवाएं बहुत महंगी हैं। इसलिए, गरीब बच्चों को इस केंद्र के माध्यम से इलाज किया जा सकता है। यदि सरकारी अस्पतालों ने बेहतर सेवाएं प्रदान की, तो इससे जनता को उपचार का लाभ होगा इसलिए, यह केंद्र नागपुर में शुरू किया गया है । अपने भाषण के दरम्यान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि यह मेरे लिए एक बड़ा समाधान है। साथ ही, स्थानीय प्रशिक्षित डॉक्टर अब यही सर्जरी कर सकते हैं ।



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today