आज ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया


  • आज ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया
    आज ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया
    1 of 4 Photos
  • Eid Mubarak
    Eid Mubarak
    1 of 4 Photos
  • आज ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया
    आज ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया
    1 of 4 Photos
  • आज ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया.
    आज ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया.
    1 of 4 Photos

नागपुर : मोमिनपुरा के फुटबॉल ग्राउंड में सुबह आठ बजे मुस्लिम भाइयो ने ईद की नमाज अता की लोगों ने आपस में गले मिलकर एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी। आज देश के कई हिस्सों में ईद-उल-अजहा का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहां है । महाराष्ट्र समेत कई अन्य राज्यों में बकरीद का जश्न मनाया जा रहा है। इसके अलावे देश के सभी हिस्सों में भी ईद मनाई जा रही है I 

इस्लाम की पवित्र पुस्तक कुरआन में ऐसा वर्णन मिलता है कि एक दिन अल्लाह ने हज़रत इब्राहिम से सपने में उनकी सबसे प्रिय चीज की कुर्बानी मांगी। हज़रत इब्राहिम को सबसे प्रिय अपना बेटा लगता था। उन्होंने अपने बेटे की कुर्बानी देने का निर्णय किया। लेकिन जैसे ही हज़रत इब्राहिम ने अपने बेटे की बलि लेने के लिए उसकी गर्दन पर वार किया। अल्लाह चाकू की वार से हज़रत इब्राहिम के पुत्र को बचाकर एक बकरे की कुर्बानी दिलवा दी। इसी कारण इस पर्व को बकरीद के नाम से भी जाना जाता है।

ईद-उल-ज़ुहा यानि बकरीद हज़रत इब्राहिम की कुर्बानी की याद में मनाया जाता है। इस दिन हज़रत इब्राहिम अल्लाह के हुक्म पर अल्लाह के प्रति अपनी वफादारी दिखाने के लिए अपने बेटे हज़रत इस्माइल को कुर्बान कराने के लिए राजी हुए थे। इस पर्व का मुख्य उद्देश्य लोगों में जनसेवा और अल्लाह की सेवा के भाव को जगाना है। ईद-उल-ज़ुहा (बकरीद) का यह पर्व इस्लाम के पांचवें सिद्धान्त हज को भी मान्यता देता है।

ईद-उल-ज़ुहा के दिन मुसलमान किसी जानवर जैसे बकरा, भेड़, ऊंट आदि की कुर्बानी देते हैं। इस कुर्बानी के गोश को तीन हिस्सों में बांटा जाता है। एक खुद के लिए, दूसरा सगे-संबंधियों के लिए और तीसरा गरीबों के लिए। 

इस दिन सभी लोग साफ-पाक होकर नए कपड़े पहनकर नमाज पढ़ते हैं। मर्दों को मस्जिद व ईदगाह और औरतों को घरों में ही पढ़ने का हुक्म है। नमाज पढ़कर आने के बाद ही कुर्बानी की प्रक्रिया शुरू की जा सकती है। ईद उल फितर की तरह ईद-उल-ज़ुहा में भी ज़कात देना अनिवार्य होता है ताकि खुशी के इस मौके पर कोई गरीब महरूम ना रह जाए I  



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today