धूमधाम से मनाया गया नागपंचमी का त्योहार


  • धूमधाम से मनाया गया नागपंचमी का त्योहार
    धूमधाम से मनाया गया नागपंचमी का त्योहार
    1 of 4 Photos
  • धूमधाम से मनाया जा रहा है नागपंचमी का त्योहार
    धूमधाम से मनाया जा रहा है नागपंचमी का त्योहार
    1 of 4 Photos
  • धूमधाम से मनाया जा रहा है नागपंचमी का त्योहार ..
    धूमधाम से मनाया जा रहा है नागपंचमी का त्योहार ..
    1 of 4 Photos
  • धूमधाम से मनाया जा रहा है नागपंचमी का त्योहार ...
    धूमधाम से मनाया जा रहा है नागपंचमी का त्योहार ...
    1 of 4 Photos

नागपुर : भारत की प्राचीन परम्परा से नाग पंचमी हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। हिन्दू पंचांग के अनुसार सावन माह की शुक्ल पक्ष के पंचमी को नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है। इस दिन नाग देवता या सर्प की पूजा की जाती है और उन्हें दूध पिलाया जाता है। हमारे देश में नाग पूजा प्राचीनकाल से चली आ रही है, नागपंचमी का पर्व परम्परागत श्रद्धा और विश्वास के साथ मनाया जाता है। नागपुर में भी कई जगह आज नाग देवता, महादेव मंदिर में लोगो ने पूजा, अर्चना कर नाग मूर्तियों को दूध चढ़ाया I नागपंचमी के दिन नाग देवता को दूध एवं खीर चढ़ाई जाती है।  इस दिन नागों का दर्शन शुभ माना जाता है।

सर्प हमारे शत्रु हैं लेकिन फिर भी लोग उनकी पूजा करते हैं। अक्सर लोगों के दिमाग में बात आती है कि आखिर जिस सर्प से इंसानों को इतना डर लगता है उसकी पूजा क्यों की जाती है? बता दे कि भारत एक कृषिप्रधान देश है और सांप हमारे खेतों की रक्षा करते हैं क्योंकि यह फसलों को नुकसान पहुंचाने वाले चूहों और कीड़ों को खा लेते हैं। इसलिए उन्हें क्षेत्रपाल भी कहा जाता है और इसी कारण लोग उनकी पूजा भी करते हैं। सांप सुगंध प्रिय होती है और इसी कारण हमारे पुराणों में सर्प को काफी ऊंचा स्थान दिया गया है इस कारण भी लोग उन्हें पूजते हैं

नागपंचमी पर नागों की पूजा का महत्व है। कई ग्रामीण क्षेत्र के लोग नागों को दूध पिलाने के साथ ही उनकी पूजा भी करते हैं। पूजा कराने के लिए सपेरे नाग लेकर सुबह से ही गली-गली घूमने लगते हैं। इस दिन नागों की पूजा की जाती है इसलिए इस पंचमी को नागपंचमी कहा जाता है। जानकारों का कहना है कि पंचमी तिथि के स्वामी नाग होते हैं। पंचमी को नागपूजा करने वाले व्यक्ति को उस दिन भूमि नहीं खोदनी चाहिए। इसके साथ ही इस दिन चांदी, सोने, लकड़ी या मिट्टी की कलम से हल्दी और चंदन की स्याही से पांच फन वाले पांच नाग बनाएं और पंचमी के दिन, खीर, कमल, पंचामृत, धूप, नैवेद्य आदि से नागों की विधिवत पूजा करें। नागपंचमी के दिन घर के दोनों ओर नाग की मूर्ति खींचकर अनन्त आदि प्रमुख महानागों का पूजन करना चाहिए। वही नागपंचमी के मौके पर सपेरों के पिटारे से नाग की बजाय उसका फोटो या रबर का नाग निकले तो चौकिएगा नहीं। क्योंकि कानूनन पकड़े जाने के डर से सपेरे नाग नहीं रख सकते I  उनके पिटारे में नाग मिला तो 2 साल तक जेल की सजा हो सकती है।



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments