नागपुर मंडल पर राजभाषा पखवाडा का भव्‍य आयोजन     


  • नागपुर मंडल पर राजभाषा पखवाडा का भव्‍य आयोजन      
    नागपुर मंडल पर राजभाषा पखवाडा का भव्‍य आयोजन     
    1 of 1 Photos

नागपुर : मध्‍य रेल नागपुर मंडल के मंडल रेल प्रबंधक श्री बृजेश कुमार गुप्ता के संरक्षण में तथा अपर मंडल रेल पबंधक एवं अपर मुख्‍य राजभाषा अधिकारी श्री त्रिलोक कोठारी की अध्‍यक्षता में मंडल राजभाषा पखवाडा का भव्‍य आयोजन आज गुंजन सभागृह में किया गया ।  इसके अंतर्गत नागपुर मंडल कार्यालय में स्थित सभी डिपो, अजनी स्‍टेशन के कर्मचारियों के लिए तथा वर्धा, चंद्रपुर, बल्‍लारशाह, आमला, बैतुल जैस स्‍टेशनों पर कार्यरत कर्मचारियों के लिए हिंदी निबंध, टिप्‍पण एवं आलेखन, वाक्, कम्‍प्‍युटर पर टंकण, हिंदी प्रश्‍नमंच आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया ।  मंडल के दूर दराज के स्‍टेशनों पर वहां के कर्मचारियों के लिए प्रतियोगिता के आयोजन से सभी प्रतिभाशाली कर्मचारियों को इसमें भाग लेने का अवसर मिला और वे सभी राजभाषा हिंदी से जुड गये ।  इस अवसर पर मुख्‍य वक्‍ता के रूप में हिंदी भाषा तज्ञ, रचनाकार एवं विचारक डॉ वेदप्रकाश बोरकर उपस्थित थे ।     

मंडल रेल प्रबंधक श्री बृजेश कुमार गुप्‍ता ने हिंदी दिवस के अवसर पर सभी कर्मचारियों एवं अधिकारियों को हार्दिक बधाई दी एवं कहा कि हिंदी ने पूरे देश को एक सूत्र में पिरोने का काम किया है । हिंदी में कार्य करने में सहजता महसूस होती है ।  उन्‍होने सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को हिंदी में अधिकाधिक कार्य करने की अपील की । अपर मंडल रेल पबंधक एवं अपर मुख्‍य राजभाषा अधिकारी श्री त्रिलोक कोठारी ने कहा कि, अपने विचारों की अभिव्‍यक्ति हम अपनी भाषा में ही खुलकर कर सकते है ।  चाहे सरकारी काम की बात  हो अथवा नीजि कार्य की, यदि हमें अपने कार्य का सर्वश्रेष्‍ठ योगदान देना है तो अपनी और सरल भाषा में काम करने की प्राथमिकता देनी चाहिए और यह सर्वगुण हिंदी भाषा में ही है ।

 डॉ वेदप्रकाश बोरकर इन्‍होने विश्‍व हिंदी भाषा की वैज्ञानिकता एवं व्‍यावहारिकता” विषय पर पॉवर पाईन्‍ट प्रेझेन्‍टेशन के माध्‍यम से अपने व्‍याख्‍यान में हिंदी की गतिविधियों पर विस्‍तृत प्रकाश डाला । उन्‍होने कहा वैश्‍वीक स्‍तर पर हिंदी का कार्य परीलक्षीत होता है । देश में 50 करोड से अधिक लोग हिंदी को जानते है हिंदी एक एैसी भाषा है जो लचीली एवं सरल है ।  उन्‍होने हिंदी रचनाओं पर आधारित शब्‍दों का अर्थ भी समझाया ।  हिंदी में राष्‍ट्रभक्‍ती एवं राष्‍ट्रप्रेम भी देखने को मिलता है ।  उन्‍होने यह भी कहा की भारतीय रेल एवं हिंदी भाषा में बहूत सामंजस्‍य है जैसे भारतीय रेल वाणिज्‍य एवं पर्यटन को जोडने का कार्य करती है वैसे ही हिंदी भाषा भी तीर्थस्‍थल  एवं सार्वजनिक उन्‍नती का एक साधन है ।  हिंदी को राजलिपी के रूप में स्‍वीकृत किया गया है । 

वर्ष 2016-17 के दौरान जिन अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने हिंदी में अधिकाधिक एवं उल्‍लेखनिय कार्य किया उन्‍हे इस अवसर पर मंडल रेल प्रबंधक पुरस्‍कारों से सम्‍मानित किया गया ।  इसमें 3 अधिकारी एवं 25 कर्मचारी शामिल    थे । राजभाषा पखवाडा के अवसर पर आयोजित विविध प्रतियागिता के कुल 25 विजेताओं को पुरस्‍कृत किया गया ।  राजभाषा पखवाडा समापन समारोह के लिये मंडल के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी बडी संख्‍या में उपस्थित थे ।  राजभाषा विभाग द्वारा आयोजित राजभाषा पखवाडा के लिए मंडल के कार्मिक विभाग, जनसंपर्क विभाग, सिग्‍नल एवं दूरसंचार एवं विद्युत विभाग तथा अन्‍य सभी विभागों का भरपूर सहयोग रहा । कार्यक्रम का सुत्रसंचालन राजभाषा अधिक्षक श्रीमती मीना कांबळे एवं प्रस्‍तावना तथा आभार प्रदर्शन राजभाषा अधिकारी श्रीमती पूर्णिमा सुरडकर ने किया ।



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today