शीतसत्र में लगेंगे १२०० वाहन - वाहन जमा करने में प्रशासन सुस्त


  • शीतसत्र में लगेंगे १२०० वाहन - वाहन जमा करने में प्रशासन सुस्त
    शीतसत्र में लगेंगे १२०० वाहन - वाहन जमा करने में प्रशासन सुस्त
    1 of 1 Photos

नागपुर : आगामी 11 दिसंबर से उपराजधानी में होने वाले शीतसत्र की तैयारीया जोरों पर चल रही है वही अधिवेशन के दौरान बड़े पैमाने पर वाहनों की जरूरत होती है । इसके लिए शीतसत्र अधिवेशन का वाहन विभाग काम में जुट गया है । 24 नवंबर से वाहनों को जमा करने का क्रम शुरू किया गया था किन्तु अब तक अधिवेशन में लगनेवाले 1200 में से करीबन 150 के करीबन वाहन ही जमा हो पाए हैं। शीतसत्र के लिए नागपुर के अलावा अमरावती, नाशिक और औरंगाबाद संभाग से वाहनों को जमा किया जाता है । इसके लिए बाकायदा पत्र देकर विभिन्न विभागों को सूचित किया जाता है। वाहन जमा करने की कछवा गति चाल को देखते हुए नागपुर को छोड़ शेष संभागों में आरटीओ और पुलिस विभाग की मदद से वाहनों को जब्त करने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है जबकि नागपुर संभाग में यह अभियान 1 दिसंबर से शुरू किया गया है । 

शासकीय वाहन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस साल शीतसत्र में कुल 1200 से 1250 वाहनों की जरूरत पड़ेगी । इसमें जीपें करीब 750-800 लगती हैं, जिसमें से बुधवार तक केवल 80 जीपें विभाग को मिल चुकी हैं। 275 से 350 कारों की जरूरत में 16 कारें ही जमा हो पाई हैं। ट्रक 40 चाहिए, जिसमें मात्र 3 मिले हैं । इसी तरह एम्बुलेंस 15-20 लगते हैं, जिसमें से अब तक एक भी जमा नहीं हुए हैं। 5 मिनी बसों की जरूरत है, जिसमें से 2 बसें प्राप्त हो चुकी हैं। 

जानकारी है कि नागपुर का शीतकालीन सत्र का कामकाज इस बार सिर्फ 10 दिन ही चलेगा। शीतकालीन अधिवेशन की शुरुआत 11 दिसंबर से होगी। जबकि सत्र की समाप्ति 22 दिसंबर को होगी हालांकि विपक्ष ने सदन के कामकाज की अवधि को बढ़ाने की मांग की है । विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने शीतकालीन सत्र की अवधि बढ़ाने की मांग की है। मुंडे ने जोर देकर कहा कि विदर्भ जैसे पिछड़े क्षेत्र में सदन का कामकाज कम से कम चार सप्ताह तक चलना चाहिए I 



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today