50 हजार में नवजात बच्ची को खरीदने वाले दंपति गिरफ्तार


  • 50 हजार में नवजात बच्ची को खरीदने वाले दंपति गिरफ्तार
    50 हजार में नवजात बच्ची को खरीदने वाले दंपति गिरफ्तार
    1 of 1 Photos

नागपुर : उपराजधानी में किराए की कोख खरीदने का मामला सामने आया है जिसमे अंतरराज्यीय गिरोह होने का अनुमान लगाया जा रहा है । मामला है एक मजदूर दंपति की नजवात बच्ची को मात्र 50 हजार रुपए में खरीदने का, इस मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है । साथ ही पुलिस ने बच्ची खरीदने वाले दंपति को भी गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार मोना अविनाश बारसागडे, उम्र 26 साल वाड़ी क्षेत्र के वैभव नगर की निवासी है, उसका पति मजदूरी करता है। जब मोना गर्भवती थी, तभी मनीष उर्फ़ सूरज रतन मूंदड़ा उम्र 36 साल और उसकी पत्नी हर्षा मुंदड़ा उम्र 32 साल सेनापती नगर, दिघोरी निवासी ने मोना से किसी के जरिए संपर्क किया था ।

पुलिस में दर्ज शिकायत में मोना ने बताया है कि जब वह गर्भवती थी, तभी किसी के जरिए मूंदड़ा दंपति ने उससे संपर्क किया। उस दौरान मोना को मूंदड़ा दंपति ने बताया कि शादी के वर्षों बाद भी उन्हें औलाद नहीं हुई है। अगर मोना उन्हें अपनी संतान देती है, तो वह उन्हें अच्छे खासे रुपए देने को तैयार हैं । उस समय यह भी बताया गया था कि बेटी होने पर 50 हजार और बेटा होने पर उससे ज्यादा रकम देंगे । बातचीत के आधार पर मोना ने 22 तारीख को एक बच्ची को जन्म दिया, तो 50 हजार रुपए देकर मोना से उसकी बच्ची ले ली। खरीदी गई नवजात का अभी तक कुछ पता नहीं चला है। पुलिस निरीक्षक सीमा मेहंदले ने घटित मामला को लेकर संदेह जताया है कि मूंदड़ा दंपति अंतरराज्यीय स्तर पर किराए से कोख खरीदने और बेचने का धंधा करती है। मामला की गंभीरता से पुलिस ने मनीष और उसकी पत्नी हर्षा को गिरफ्तार किया है । मामला में शामिल भारती नामक महिला अभी भी फरार बताई जाती है, इस प्रकरण में भारती की महत्वपूर्ण भूमिका बताई जा रही है I 

बच्ची के खरीदी-बिक्री का सौदा धंतोली क्षेत्र में हुआ था मामला को लेकर मूंदड़ा दंपति पुलिस को गुमराह कर रही है। भारती के बारे में भी उन्हें ठीक से जानकारी नहीं दी जा रही है। शुरुआती दौर में बच्ची के मध्य प्रदेश में होने की शंका थी, किन्तु बाद में बच्ची पुणे या नागपुर में ही होने की जानकारी मिली है । मूंदड़ा दंपति बच्ची को कानूनी रूप से लिए जाने का हवाला देकर पुलिस पर दबाव बनाने का प्रयास करती रही लेकिन जब पुलिस ने इसके दस्तावेज और सरोगेसी सेंटर दिखाने के लिए कहा, तो मूंदड़ा दंपति ने चुप्पी साध ली, जिससे यह आशंका व्यक्त की जा रही है कि कहीं लाखों रुपए लेकर मूंदड़ा दंपति बच्चे खरीदने और बेचने के व्यापार में लिप्त तो नहीं इस संदेह के चलते आगे की जांच जारी है I  



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today