नागपुर सेंट्रल जेल में आरोपी आयुष पुगलिया की हत्या


  • नागपुर सेंट्रल जेल में आरोपी आयुष पुगलिया की हत्या
    नागपुर सेंट्रल जेल में आरोपी आयुष पुगलिया की हत्या
    1 of 3 Photos
  • नागपुर सेंट्रल जेल में आरोपी आयुष पुगलिया की हत्या
    नागपुर सेंट्रल जेल में आरोपी आयुष पुगलिया की हत्या
    1 of 3 Photos
  • नागपुर सेंट्रल जेल में आरोपी आयुष पुगलिया की हत्या ..
    नागपुर सेंट्रल जेल में आरोपी आयुष पुगलिया की हत्या ..
    1 of 3 Photos

नागपुर : पुरे देश में चर्चित कुश कटरिया हत्याकांड के मुख्य आरोपी आयुष पुगलिया की आज सुबह सेंट्रल जेल में हत्या कर दी गई । प्राप्त जानकारी के अनुसार सजा काट रहा आरोपी आयुष सुबह करीबन 7.15 को जेल के भीतर टॉयलेट के लिए गया था। तभी टॉयलेट के अंदर ही सूरज विशेषराव कोटनाके ने फर्श के टुकड़े से उस पर जानलेवा हमला कर दिया। इसके बाद सूरज ने धारदार हथियार से उसका गला भी रेत दिया। आरोपी सूरज ईसापुर राजुरा चंद्रपुर का निवासी है। आरोपी सुरज 302 के तहत सजा काट रहा है। बताया जा रहा है कि जेल में आयुष और सूरज के बीच काफी दिनों से विवाद हो रहा था । आयुष बार-बार सूरज को धमकी दिया करता था। सूरज ने आज मौका पाकर उसकी हत्या कर दी। घटना के बाद जेल के बाहर पत्रकारों तथा आयुष पुगलिया के परिजनों की भीड़ लगी हुई है । आयुष पुगलिया के परिवार वालो ने आरोप लगाया है की घटना सुबह होने के बाद भी हमें जेल प्रशासन की ओर से कोई भी जानकारी नहीं दी गई, कुछ देर तक पुगलिया के परिवार वालो ने जेल के सामने हंगामा भी किया I   

ज्ञात हो की नागपुर के वर्धमान नगर निवासी उद्योगपति प्रशांत कटारिया के 5 साल के बेटे कुश का उनके ही पड़ोस में रहने वाले आयुष निर्मल पुगलिया ने 11 अक्टूबर 2011 को किडनैप किया था। आयुष गर्लफ्रेंड के शौक पूरे नहीं कर पा रहा था और उसे पैसों की जरुरत थी। इसलिए उसने कुश को किडनैप करने का प्लान बनाया। कुश को किडनैप करने के बाद आयुष पुगलिया ने कटारिया से दो करोड़ की फिरौती मांगी थी, किन्तु फिरौती मिलने से पहले ही उसने बड़ी बेरहमी  से कुश की हत्या कर दी थी ।

नागपुर जिला कोर्ट ने आयुष को किडनैपिंग और हत्या के आरोप में तिहरी उम्रकैद की सजा सुनाई थी। उसे दो उम्रकैद की सजाएं एक साथ और इनकी समाप्ति के बाद तीसरी उम्रकैद की सजा काटनी थी।आयुष के भाई नवीन को सबूत नष्ट करने के लिए दोषी करार देते हुए कारावास की सजा सुनाई थी। वहीं दूसरे भाई नितिन को निर्दोष करार देते हुए बरी किया गया था। आरोपी आयुष ने जिला कोर्ट के इस फैसले को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट के सामने अपील दायर की थी, लेकिन कोर्ट ने वह खारिज कर दी थी I 



add like button Service und Garantie

Leave Your Comments

Other News Today